dotcom 4pic

 

छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
छपरा बिहार राज्य के सारण प्रमंडल एवं जिले का मुख्यालय शहर है जो कि गंगा और घाघरा नदी के संगम पर स्थित है । प्राचीन काल में यह कोसल राज्य का भाग हुआ करता था ,इसका ऊल्लेख हमें अबुल फजल लिखित आइने अकबरी में भी मिलता है जो कि उस समय बिहार राज्य के ६ राजस्व जिलों में एक था .। छपरा का काफ़ी पुराना इतिहास रहा है महर्षि दधिचि का आश्रम यहीं पर अवस्थित था जिन्होंने व्रज बनाने के लिए अपनी अस्थियां देवताओं को दान कर दी थी ।
Loading image. Please wait