dotcom 4pic

 

बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
बारबडोस कैरेबियन सागर के पूर्व में बसा हुआ है। वर्तमान में यह स्थान वेस्ट इंडीज का हिस्सा है। पहले तीन शताब्दी तक यह स्थान ब्रिटेन का उपनिवेश हुआ करता था। इसके दक्षिण में ट्रिनिडाड और टबेगो है। इसके अलावा इसके आस पास सेंट लुसिया, सेट विंसेट आदि स्थान पड़ते हैं। यहां बहुत सारे बीच हैं । हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक अपनी छुट्टियों का आनंद लेने बारबडोस घूमने आते हैं। मुख्य रूप से यहां लोग चर्च देखने आते हैं। यहां पर बहुत सारे चर्च हैं जिनमें हर एक की अपनी खूबी है।
बारबडोस कैरेबियन सागर के पूर्व में बसा हुआ है। वर्तमान में यह स्थान वेस्ट इंडीज का हिस्सा है। पहले तीन शताब्दी तक यह स्थान ब्रिटेन का उपनिवेश हुआ करता था। इसके दक्षिण में ट्रिनिडाड और टबेगो है। इसके अलावा इसके आस पास सेंट लुसिया, सेट विंसेट आदि स्थान पड़ते हैं। यहां बहुत सारे बीच हैं । हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक अपनी छुट्टियों का आनंद लेने बारबडोस घूमने आते हैं। मुख्य रूप से यहां लोग चर्च देखने आते हैं। यहां पर बहुत सारे चर्च हैं जिनमें हर एक की अपनी खूबी है।
बारबडोस कैरेबियन सागर के पूर्व में बसा हुआ है। वर्तमान में यह स्थान वेस्ट इंडीज का हिस्सा है। पहले तीन शताब्दी तक यह स्थान ब्रिटेन का उपनिवेश हुआ करता था। इसके दक्षिण में ट्रिनिडाड और टबेगो है। इसके अलावा इसके आस पास सेंट लुसिया, सेट विंसेट आदि स्थान पड़ते हैं। यहां बहुत सारे बीच हैं । हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक अपनी छुट्टियों का आनंद लेने बारबडोस घूमने आते हैं। मुख्य रूप से यहां लोग चर्च देखने आते हैं। यहां पर बहुत सारे चर्च हैं जिनमें हर एक की अपनी खूबी है।
बारबडोस कैरेबियन सागर के पूर्व में बसा हुआ है। वर्तमान में यह स्थान वेस्ट इंडीज का हिस्सा है। पहले तीन शताब्दी तक यह स्थान ब्रिटेन का उपनिवेश हुआ करता था। इसके दक्षिण में ट्रिनिडाड और टबेगो है। इसके अलावा इसके आस पास सेंट लुसिया, सेट विंसेट आदि स्थान पड़ते हैं। यहां बहुत सारे बीच हैं । हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक अपनी छुट्टियों का आनंद लेने बारबडोस घूमने आते हैं। मुख्य रूप से यहां लोग चर्च देखने आते हैं। यहां पर बहुत सारे चर्च हैं जिनमें हर एक की अपनी खूबी है।
बारबडोस कैरेबियन सागर के पूर्व में बसा हुआ है। वर्तमान में यह स्थान वेस्ट इंडीज का हिस्सा है। पहले तीन शताब्दी तक यह स्थान ब्रिटेन का उपनिवेश हुआ करता था। इसके दक्षिण में ट्रिनिडाड और टबेगो है। इसके अलावा इसके आस पास सेंट लुसिया, सेट विंसेट आदि स्थान पड़ते हैं। यहां बहुत सारे बीच हैं । हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक अपनी छुट्टियों का आनंद लेने बारबडोस घूमने आते हैं। मुख्य रूप से यहां लोग चर्च देखने आते हैं। यहां पर बहुत सारे चर्च हैं जिनमें हर एक की अपनी खूबी है।
बारबडोस कैरेबियन सागर के पूर्व में बसा हुआ है। वर्तमान में यह स्थान वेस्ट इंडीज का हिस्सा है। पहले तीन शताब्दी तक यह स्थान ब्रिटेन का उपनिवेश हुआ करता था। इसके दक्षिण में ट्रिनिडाड और टबेगो है। इसके अलावा इसके आस पास सेंट लुसिया, सेट विंसेट आदि स्थान पड़ते हैं। यहां बहुत सारे बीच हैं । हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक अपनी छुट्टियों का आनंद लेने बारबडोस घूमने आते हैं। मुख्य रूप से यहां लोग चर्च देखने आते हैं। यहां पर बहुत सारे चर्च हैं जिनमें हर एक की अपनी खूबी है।
बारबडोस कैरेबियन सागर के पूर्व में बसा हुआ है। वर्तमान में यह स्थान वेस्ट इंडीज का हिस्सा है। पहले तीन शताब्दी तक यह स्थान ब्रिटेन का उपनिवेश हुआ करता था। इसके दक्षिण में ट्रिनिडाड और टबेगो है। इसके अलावा इसके आस पास सेंट लुसिया, सेट विंसेट आदि स्थान पड़ते हैं। यहां बहुत सारे बीच हैं । हर साल हजारों की संख्या में पर्यटक अपनी छुट्टियों का आनंद लेने बारबडोस घूमने आते हैं। मुख्य रूप से यहां लोग चर्च देखने आते हैं। यहां पर बहुत सारे चर्च हैं जिनमें हर एक की अपनी खूबी है।
बारबाडोस प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में कैरेबियन द्वीप पर स्थित इस देश को अंग्रेजों ने अफ्रीका और भारत से गन्ना उत्पादन के लिए लाए गए गुलामों की मदद से आबाद किया था। महज 430 वर्ग किमी में फैले इस द्वीप के आस-पास के देश में पश्चिम में सेंट विंसेंट व द ग्रेनाजिनस और सेंट लुसिया और दक्षिण में त्रिनिदाद और टोबैगो हैं। उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले इस देश में प्रशांत महासागर में चलने वाली हवाएं वातावरण को शीतल बनाए रखती हैं। सामाजिक और राजनीतिक सुधारों की धीमी शुरुआत के बावजूद आज मानव विकास सूची में इस देश का स्थान ऊपर के 75 देशों में आता है।
Loading image. Please wait